इमरान खान पाकिस्तान में बहुत पसंद किए जाते हैं। लोग उन्हें तालिबान खान भी कहते रहे हैं, लेकिन इमरान का अगर अतीत देखा जाए तो शायद यह कहना गलत होगा कि उनका मजहब से कभी कोई गहरा तालुक रहा है। पाकिस्तानी अवाम इस बात की उम्मीद करती है कि वह ऐसा कोई कदम नहीं उठाएंगे, जिससे मुल्क में धार्मिक चरमपंथ बढ़े।