सूरत या कोटा या किसी भी शहर में शासन या प्रशासन की क्रूर और निर्मम मानसिकता के चलते और इन संस्थानों की इंसान को पशुओं की श्रेणी में रखने की बाज़ार की व्यवस्था के चलते कितनी ही जानों का निपट जाना इस देश को सीरिया, फलस्तीन, लेबनान, कोलंबिया, लीबिया या अफगानिस्तान जैसे हालात में डालने पर आमादा दिख रहा है। बस फर्क यह है कि उन देशों में युद्ध है और हमारे यहाँ निडर, निर्ल्लज और मनचाही अव्यवस्था।