चार मार्च देश के मशहूर कथाकार फणीश्वरनाथ रेणु का जन्मदिन है। इस अवसर पर पेश है बिहार के वरिष्ठ साहित्यकार और राजनीतिकर्मी प्रेमकुमार मणि के संस्मरण।
” उन पर मैंने और बहुतों ने बहुत बार लिखा है ,लेकिन उन पर और लिखा जायेगा ,लगातार लिखा जाता रहेगा ,क्योंकि वह कुछ खास थे। उनकी खासियत की चर्चा बहुतों ने की है। बहुतों ने अपने -अपने नजरिये से उनके व्यक्तित्व और कृतित्व को देखने -दिखाने की कोशिश की है। लेकिन अभी भी बहुत कुछ ऐसा है ,जिसका अनावरण नहीं हुआ है। आने वाली पीढ़ियां शायद इसका अन्वेषण करेगी।”