महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना के बीच एक सप्ताह से भी ज्यादा समय से जारी गतिरोध अभी बना हुआ है। सतही और जाहिरा तौर पर तो यह मामला दोनों दलों के बीच मुख्यमंत्री पद हासिल करने की खींचतान का है, लेकिन भाजपा अध्यक्ष तथा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की महत्वाकांक्षाओं के तार भी इस खींचतान से जुडे हुए हैं। इसी वजह से कहा जा रहा है कि अगर भाजपा की अगुवाई में सरकार बन भी गई तो देवेंद्र फडनवीस मुख्यमंत्री नहीं होंगे।

पार्टी से जुडे जानकार सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी दोबारा फडनवीस को ही मुख्यमंत्री बनाना चाहते हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेतृत्व की पसंद भी फडनवीस ही हैं। इसीलिए उन्हें भाजपा विधायक दल का दोबारा नेता चुनने में कहीं कोई समस्या नहीं आई। लेकिन शाह की चाहत कुछ और है। सूत्रों के मुताबिक दरअसल शाह इस मामले में अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर सोच रहे हैं। उन्हें लगता है कि फडनवीस अगर दोबारा मुख्यमंत्री बन गए तो आगे चल कर पांच साल बाद वे राष्ट्रीय राजनीति में उनके लिए चुनौती बन सकते हैं और तब मोदी के उत्तराधिकारी के तौर संघ नेतृत्व भी सहज ही उन्हें महाराष्ट्रीयन ब्राह्मण होने के नाते आसानी से स्वीकार कर लेगा। इसीलिए वे फडनवीस के बजाय किसी अन्य को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं। इस सिलसिले में उनकी पसंद महाराष्ट्र प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल हैं। गौरतलब है कि देवेंद्र फडनवीस की सरकार में राजस्व और लोकनिर्माण मंत्री रहे पाटिल को अमित शाह ने विधानसभा चुनाव से महज तीन महीने पहले ही प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष बनाया था।

सूत्रों के मुताबिक शाह ने हालांकि जाहिरा तौर पर अपनी पसंद या इच्छा का इजहार नहीं किया है, लेकिन माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री पद लेने के लिए अडी हुई शिवसेना की जिद्द को वे भी परोक्ष रूप से हवा दे रहे हैं। इसके पीछे उनका एकमात्र मकसद फडनवीस को दोबारा मुख्यमंत्री बनने से रोकना है।

बताया जाता है कि शिवसेना ने अगर अपनी जिद छोड भी दी तो वह भाजपा का मुख्यमंत्री इसी शर्त पर स्वीकार करेगी कि फडनवीस के बजाय किसी अन्य नेता को मुख्यमंत्री बनाया जाए। ऐसी स्थिति में शाह की पसंद के तौर पर चंद्रकांत पाटिल के नाम पर सहमति बन सकती है।

उल्लेखनीय है कि सूबे के प्रमुख मराठा नेताओं में शुमार पाटिल वैसे रहने वाले तो कोल्हापुर यानी पश्चिम महाराष्ट्र के हैं लेकिन पुणे की कोथरूड विधानसभा सीट से चुनाव जीत कर वे पहली बार विधानसभा में पहुंचे हैं। इससे पहले वे विधान परिषद के सदस्य रहते आए हैं। कोल्हापुर में ही अमित शाह की ससुराल भी है।

बताया जाता है कि पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष पद पर पाटिल की नियुक्ति को भी देवेंद्र फडनवीस ने पसंद नहीं किया था। उनकी नियुक्ति को वे अपने लिए राजनीतिक खतरे के तौर पर देख रहे थे, इसीलिए पहले उनके बारे प्रचारित करवाया गया कि वे मराठा नहीं बल्कि जैन हैं। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में जैन समुदाय के भी कई लोग अपने नाम के साथ पाटिल उपनाम लगाते हैं। चंद्रकांत पाटिल के बारे में जब यह प्रचार कारगर नहीं रहा तो उनकी घेराबंदी कर उन्हें अपने गृह जिले दूर पुणे की ब्राह्मण बहुल कोथरूड विधानसभा सीट से चुनाव लडने के लिए मजबूर किया गया। वहां उन्हें बाहरी उम्मीदवार के तौर पर भी प्रचारित कराया गया। इस प्रचार को हवा देने का काम भी पार्टी के उन लोगों ने ही किया जो वहां सीटिंग विधायक मेधा कुलकर्णी के समर्थक माने जाते हैं।

गौरतलब है कि फडनवीस की करीबी मेधा कुलकर्णी का टिकट काटकर ही पाटिल को वहां उम्मीदवार बनाया गया था। कुल मिलाकर उन्हें हराने के लिए जो भी संभव प्रयास हो सकते थे, वे सभी फडनवीस और उनके समर्थकों की ओर से किए गए। इन सारे प्रयासों के बावजूद पाटिल करीब 25000 वोटों से चुनाव जीतने में कामयाब रहे।

 

Comments